"चमकता हूँ, गरजता हूँ, हाँ जोरों से बरसता हूँ मैं.. तेरी फिक्र और चाहत लिए खुद भी भींगता हूँ मैं.. ज़...

बिहार विधानसभा में प्रशाखा पदाधिकारी के पद पर चयनित हुईं महिमा प्रभाकर 

पटना में पंजाब नेशनल बैंक में सहायक प्रबंधक के रूप में अपनी सेवाएं दे चुकीं महिमा प्रभाकर बीपीएससी क...

सामाजिक संस्थाओं ने मंदिर के ब्राह्मणों के बीच वितरित किया राशन

पटना, 15 जून, "बोलो ज़िन्दगी वेलफेयर फाउंडेशन", "श्री सच्चा कला केंद्र" व "मेक ए न्यू लाइफ फाउंडेशन"...

ख़ुद कोरोना पॉजिटिव रहते हुए कई कोविड पेशेंट्स के काम आईं ये डॉक्टर : डॉ. आकांक्षा अभिषेक

पटना की चीफ डेंटल कंसल्टेंट डॉ. आकांक्षा अभिषेक जो 'द टूथ डॉक्टर्स' डेंटल क्लिनिक की फाउंडर हैं इस क...

कोरोना काल में समाज के लिए मिसाल हैं पटना के ये उद्यमी : राकेश मिश्रा 

Ravian Pharmaceuticals Ltd. और Rbin Laboratories Pvt. Ltd. फार्मा मार्केटिंग कम्पनी के मैनेजमेंट डाय...

विश्व पर्यावरण दिवस पर सीआरपीएफ की एक नई पहल

5 जून, 'विश्व पर्यावरण दिवस' के अवसर पर बिहार सेक्टर के सीआरपीएफ कमांडेंट मुन्ना कुमार सिंह ने अपने...

और लगाना पड़ा था फर्श पर पोछा : स्व.गिरीश रंजन, फिल्म निर्देशक

जब हम जवां थेंBy: Rakesh Singh ‘Sonu’ बचपन में मुझेसाहित्य से बड़ालगाव था. शरतचंदके साहित्य नेमुझे भावुक बनादिया. नतीजा यहकि तभी सेफिल्में आकर्षित करने लगीं, न...
Read more

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका
सन 1948 में जब पटना में ‘आकाशवाणी‘ की शुरुआत हुई, तब से मेरा काम और बढ़ता गया. यूँ कहें कि मैं बिहार केलिए आकाशवाणी की देन हूँ, वही मेरा मंदिर, मस्जिद, गुरुद्व...
Read more

कुश्ती और फ़िल्में देखने का शौक था : स्व. रामसुंदर दास, भूतपूर्व मुख्यमंत्री, बिहार

कुश्ती और फ़िल्में देखने का शौक था : स्व. रामसुंदर दास, भूतपूर्व मुख्यमंत्री, बिहार
  1941  में कोलकाता के विधासागर कॉलेज से इंटर करने के बाद राजनीति में चला आया और इतना रम गया कि फिर आगे पढाई नहीं कर पाया. लेकिन हाँ, किताबें पढ़ने का शौक अनवरत जारी ...
Read more

तब स्पॉट बॉय ने भी मुझे तंग किया था : के.के.गोस्वामी (हास्य अभिनेता)

वो मेरी पहली शूटिंग By: Rakesh Singh ‘Sonu’ मेरी पहली फिल्म थी भोजपुरी भाषा की ‘रखिह लाज अचरवा के’ जो 1996 में रिलीज हुई थी. इसके निर्देशक थे...
Read more

शूटिंग के दौरान बाल बाल बचा : स्व.प्यारे मोहन सहाय (अभिनेता)

शूटिंग के दौरान बाल बाल बचा : स्व.प्यारे मोहन सहाय (अभिनेता)
जब हम जवां थें By: Rakesh Singh ‘Sonu’       मैं बी.एन.कॉलेज का विद्यार्थी था लेकिन ग्रेजुएशन बीच में ही छोड़ मुझे नौकरी करनी पड़ी.रेलवे मेल सर्व...
Read more
250 x 250
250 x 250