घरेलू हिंसा के प्रति महिलाओं को जागरूक करती है पुस्तक 'We Women' 

'सूर्या महिला कोषांग' की स्थापना आज ही के दिन लगभग 19 साल पहले 8 अक्टूबर 2002 को की गयी थी. यह भारत...

सम्पन्न हुई 11वीं बिहार राज्य वुशू मार्शल आर्ट प्रतियोगिता

पटना, 24 से 26 सितंबर तक बिहार वुशू संघ एवं पटना वुशू संघ के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय 11वीं...

गंगा आरती शुरू करने के लिये सरकार के प्रति आभार: प्रभाकर मिश्र, संयोजक, प्र. भाजपा नमामि गंगे

पटना, 2 सितंबर, प्रदेश भाजपा नमामि गंगे के संयोजक प्रभाकर कुमार मिश्र और भाजपा नेता शैलेश महाजन ने र...

सामयिक परिवेश क्लब ने मनाया सावन मिलन समारोह

पटना, 20 अगस्त, सामयिक परिवेश क्लब का सावन-मिलन समारोह हाइड-आउट कैफे में हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न ह...

दोहा-क़तर से पटना आकर डिजिटल मार्केटिंग सिखा रहे हैं अंशु दीक्षांत, प्रतिभा पलायन को रोकना है उद्देश्य

पटना, 24 जुलाई 2021, जहाँ प्रतिभाएं बिहार से विदेशों में पलायन कर रहीं हैं, वहीँ बिहार के सिवान जिले...

“शब्दांजली” कार्यक्रम में वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. सतीशराज पुष्करणा जी को दी गयी श्रद्धांजलि

पटना, 11 जुलाई, “लघुकथा आंदोलन की शुरुआत करने वाले डॉ. सतीशराज पुष्करणा पटना में मेरे पड़ोसी हुआ करते...

बेजुबां है वो मगर बोलती है पेंटिंग

तारे ज़मीं परBy: Rakesh Singh ‘Sonu’“हर मुश्किल सवाल का जवाब हूँ मैं सुनी अँखियों का ख्वाब हूँ मैं हुनर की बोलती किताब हूँ मैं “– श...
Read more

मेरा कैमरामैन बीच में ही फिल्म छोड़कर भाग गया था : ब्रजभूषण, फिल्म निर्देशक

मेरा कैमरामैन बीच में ही फिल्म छोड़कर भाग गया था : ब्रजभूषण, फिल्म निर्देशक
ग्रेजुएशन उपरांत इंस्टीच्यूट ऑफ़ फिल्म टेक्नोलॉजी मद्रास से 1977 में डिप्लोमा लेने के बाद मैंने अपने ही बैनर ‘चित्राश्रम’ के तहत अपने ही निर्माण -निर्देशन में...
Read more

मेरा गोरा रंग देखकर सास ने मुझे तौफे में साड़ी दिया : डॉ. अर्चना मिश्रा, स्त्री रोग विशेषज्ञ (अस्सिस्टेंट प्रोफ़ेसर), एन.एम.सी.एच.पटना

मेरा गोरा रंग देखकर सास ने मुझे तौफे में साड़ी दिया : डॉ. अर्चना मिश्रा, स्त्री रोग विशेषज्ञ (अस्सिस्टेंट प्रोफ़ेसर), एन.एम.सी.एच.पटना
जब अपने मायके बेगूसराय से मुजफ्फरपुर ससुराल पहुंची तो वहां घर में सारी की सारी ग्रामीण महिलाओं को देखकर मैं थोड़ी घबरा सी गयी कि कहीं यहाँ मुझे ज्यादा पर्दे में तो नहीं रह...
Read more

फीकी चाय (लेखक : राकेश सिंह ‘सोनू’)

लघु कथा ऑफिस को देर हो रही थी, वह चाय के इंतज़ार में था. पत्नी ने आकर चाय का प्याला थमाया. चाय पीते ही उसका चेहरा उग्र हो गया, उसने तीखी नज़रों से पत्नी को घूरा और बरस पड़ा...
Read more

बोझ (लेखक : राकेश सिंह ‘सोनू’)

लघु कथा लड़केवाले उसकी खूबसूरती पर फ़िदा थे. कम में ही मामला निपट गया था. “मेरे होनेवाले जीजा को ज़रा एक नज़र तुम भी देख लो “, भाई ने बहन से कहा. ” जब सभी क...
Read more
250 x 250
250 x 250