फंतासी उपन्यास 'भविष्यत' का हुआ ऑनलाइन विमोचन

पटना, 18 अक्टूबर, लेखक अभिलाष दत्त के उपन्यास 'भविष्यत' का ऑनलाइन विमोचन रविवार को किया गया. पुस्तक...

गाँधी जयंती पर विरासत विभाग का संगीतम वर्चुअल कार्यक्रम

पटना, 2 अक्टूबर, शाम 7 बजे गाँधी जयंती पर विशेष "बापू लेकर आएं अहिंसा की बोलियाँ" संगीतमय वर्चुअल का...

घर बैठे रोजमर्रा की सेवाएं प्रदान करने के लिए पटना के युवाओं ने ईजाद किया 1JUT ऐप

पटना, 25 सितंबर, युवा उद्यमी विपुल शरण और सम्यक पाठक की टीम ने अपनी कंपनी कर्मकांडी प्राइवेट लिमिटेड...

भाजपा कला एवं संस्कृति प्रकोष्ठ, विरासत विभाग की 21 सदस्यीय प्रदेश टीम का हुआ गठन

पटना, 23 अगस्त, भारतीय जनता पार्टी बिहार प्रदेश, कला एवं संस्कृति प्रकोष्ठ के विरासत विभाग की 21 सदस...

अमेरिका के 'टाइम्स स्क्वायर' में पहली बार फहरा भारतीय तिरंगा

https://youtu.be/Y_yoFwltOgk   16 अगस्त, पटना-ह्यूस्टन, वन्दे मातरम, जन-गण-मन और भारत माता की ज...

श्री सच्चा कला केंद्र ने आयोजित कराई ऑनलाइन राधा-कृष्ण रूपसज्जा प्रतियोगिता

पटना, 12 अगस्त, जन्माष्टमी के अवसर को ध्यान में रहते हुए श्री सच्चा कला केंद्र द्वारा ऑनलाइन जन्माष्...

और लगाना पड़ा था फर्श पर पोछा : स्व.गिरीश रंजन, फिल्म निर्देशक

जब हम जवां थेंBy: Rakesh Singh ‘Sonu’ बचपन में मुझेसाहित्य से बड़ालगाव था. शरतचंदके साहित्य नेमुझे भावुक बनादिया. नतीजा यहकि तभी सेफिल्में आकर्षित करने लगीं, न...
Read more

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका
सन 1948 में जब पटना में ‘आकाशवाणी‘ की शुरुआत हुई, तब से मेरा काम और बढ़ता गया. यूँ कहें कि मैं बिहार केलिए आकाशवाणी की देन हूँ, वही मेरा मंदिर, मस्जिद, गुरुद्व...
Read more

कुश्ती और फ़िल्में देखने का शौक था : स्व. रामसुंदर दास, भूतपूर्व मुख्यमंत्री, बिहार

कुश्ती और फ़िल्में देखने का शौक था : स्व. रामसुंदर दास, भूतपूर्व मुख्यमंत्री, बिहार
  1941  में कोलकाता के विधासागर कॉलेज से इंटर करने के बाद राजनीति में चला आया और इतना रम गया कि फिर आगे पढाई नहीं कर पाया. लेकिन हाँ, किताबें पढ़ने का शौक अनवरत जारी ...
Read more

तब स्पॉट बॉय ने भी मुझे तंग किया था : के.के.गोस्वामी (हास्य अभिनेता)

वो मेरी पहली शूटिंग By: Rakesh Singh ‘Sonu’ मेरी पहली फिल्म थी भोजपुरी भाषा की ‘रखिह लाज अचरवा के’ जो 1996 में रिलीज हुई थी. इसके निर्देशक थे...
Read more

शूटिंग के दौरान बाल बाल बचा : स्व.प्यारे मोहन सहाय (अभिनेता)

शूटिंग के दौरान बाल बाल बचा : स्व.प्यारे मोहन सहाय (अभिनेता)
जब हम जवां थें By: Rakesh Singh ‘Sonu’       मैं बी.एन.कॉलेज का विद्यार्थी था लेकिन ग्रेजुएशन बीच में ही छोड़ मुझे नौकरी करनी पड़ी.रेलवे मेल सर्व...
Read more
250 x 250
250 x 250