बोलो ज़िन्दगी फैमिली ऑफ़ द वीक : यू ब्लड बैंक की संस्थापिका शिखा मेहता की फैमिली, धवलपुरा, पटनासिटी

रविवार की शाम 26 जनवरी, रिपब्लिक डे के दिन 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़िन्दगी की टीम...

बोलो ज़िन्दगी फैमिली ऑफ़ द वीक : फाइनआर्ट्स टीचर उपासना दत्ता की फैमिली, शास्त्रीनगर, पटना

18 जनवरी, शनिवार की शाम 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़िन्दगी की टीम (राकेश सिंह 'सोनू',...

बिहार यूथ आईकाॅन कैलेण्डर 2020 हुआ लॉन्च

पटना, 19 जनवरी की शाम पटना के एवीआर होटल में जनवरी से लेकर दिसंबर तक पूरे साल जगमगानेवाले सितारे एक...

पटना के ईस्ट बोरिंग केनाल रोड में लॉन्च हुआ कैफे ‘पिनाकिन’

    16 जनवरी 2020, पटना के ईस्ट बोरिंग केनाल रोड में कैफे PINAKIN की लॉन्चिंग हुई. कैफे का...

बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक : स्टोरी टेलर शाइस्ता अंजुम की फैमली, गुलजारबाग़, पटनासिटी

https://www.youtube.com/watch?v=m0MbZiMBaM0 पिछले दिनों 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़ि...

दिव्यांग अधिकार संवाद सह मकर संक्रांति उत्सव का हुआ आयोजन

पटना, 12 जनवरी, किदवईपुरी, ठाकुर प्रसाद कम्युनिटी हॉल के सभागार में दिव्यांग जनों का अधिकार संवाद सह...

बोझ (लेखक : राकेश सिंह ‘सोनू’)

लघु कथा लड़केवाले उसकी खूबसूरती पर फ़िदा थे. कम में ही मामला निपट गया था. “मेरे होनेवाले जीजा को ज़रा एक नज़र तुम भी देख लो “, भाई ने बहन से कहा. ” जब सभी क...
Read more

फ्रेंडशिप (लेखक: राकेश सिंह ‘सोनू’)

लघु कथा  यह उसका तीसरा बॉयफ्रेंड था. पहनावे व हावभाव से वह भांप गई कि मुर्गा पैसेवाला है. जब लड़के ने बताया कि वह किराये के मकान में रहता है, तो उसे हैरत ना हुई. मगर...
Read more

सबक (लेखक: राकेश सिंह ‘सोनू’)

लघु कथा बस में उसे किसी ने चुटकी काट ली. उसे बुरा लगा. वही हरकत दोबारा हुई.    इस भीड़ में वह किस पर शक करती ?  तीसरी बार वही हुआ. इस बार उसने देख लिया. लड़क...
Read more

और लगाना पड़ा था फर्श पर पोछा : स्व.गिरीश रंजन, फिल्म निर्देशक

जब हम जवां थेंBy: Rakesh Singh ‘Sonu’ बचपन में मुझेसाहित्य से बड़ालगाव था. शरतचंदके साहित्य नेमुझे भावुक बनादिया. नतीजा यहकि तभी सेफिल्में आकर्षित करने लगीं, न...
Read more

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका
सन 1948 में जब पटना में ‘आकाशवाणी‘ की शुरुआत हुई, तब से मेरा काम और बढ़ता गया. यूँ कहें कि मैं बिहार केलिए आकाशवाणी की देन हूँ, वही मेरा मंदिर, मस्जिद, गुरुद्व...
Read more
250 x 250
250 x 250