बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक : नवोदित कवि केशव कौशिक की फैमिली, महेन्द्रू, पटना  

15 सितंबर, रविवार की शाम 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़िन्दगी की टीम (राकेश सिंह 'सोनू'...

नालंदा की धरती पर कवियों,साहित्यकारों,शिक्षाविदों और समाजसेवियों का हुआ सम्मान

पटना, 14 सितंबर, नालंदा की धरती पर एक ओर जहाँ हिंदी को माथे की बिंदी की उपमा दी जा रही थी वहीँ दूसरी...

बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक : रीना सिन्हा जी की फैमिली, कालिकेत नगर, पटना

8 सितंबर, रविवार की शाम 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़िन्दगी की टीम (राकेश सिंह 'सोनू',...

‘वेलनेस एन्ड हैप्पीनेस’ के साथ मना पुरोधालय का दूसरा वर्षगांठ

पटना, 8 सितंबर, पुरोधालय का दूसरा वर्षगांठ ''वाह वेलनेस इनफाइनाइट फाउंडेशन" के सहयोग से 'वेलनेस एन्ड...

बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक : वागीशा झा की फैमिली, खगौल, पटना 

2 सितंबर, सोमवार की शाम 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़िन्दगी की टीम (राकेश सिंह 'सोनू',...

बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक : पूनम त्रिवेदी की फैमिली, ईस्ट बोरिंग कैनाल रोड, पटना

24 अगस्त, शनिवार की शाम 'बोलो ज़िन्दगी फैमली ऑफ़ द वीक' के तहत बोलो ज़िन्दगी की टीम (राकेश सिंह 'सोनू',...

सबक (लेखक: राकेश सिंह ‘सोनू’)

लघु कथा बस में उसे किसी ने चुटकी काट ली. उसे बुरा लगा. वही हरकत दोबारा हुई.    इस भीड़ में वह किस पर शक करती ?  तीसरी बार वही हुआ. इस बार उसने देख लिया. लड़क...
Read more

और लगाना पड़ा था फर्श पर पोछा : स्व.गिरीश रंजन, फिल्म निर्देशक

जब हम जवां थेंBy: Rakesh Singh ‘Sonu’ बचपन में मुझेसाहित्य से बड़ालगाव था. शरतचंदके साहित्य नेमुझे भावुक बनादिया. नतीजा यहकि तभी सेफिल्में आकर्षित करने लगीं, न...
Read more

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका

बिहारी लोगों को बोली गयी बात मन में चुभ गयी : बिहार कोकिला, पद्मश्री, स्व.विंध्यवासिनी देवी,लोक गायिका
सन 1948 में जब पटना में ‘आकाशवाणी‘ की शुरुआत हुई, तब से मेरा काम और बढ़ता गया. यूँ कहें कि मैं बिहार केलिए आकाशवाणी की देन हूँ, वही मेरा मंदिर, मस्जिद, गुरुद्व...
Read more

कुश्ती और फ़िल्में देखने का शौक था : स्व. रामसुंदर दास, भूतपूर्व मुख्यमंत्री, बिहार

कुश्ती और फ़िल्में देखने का शौक था : स्व. रामसुंदर दास, भूतपूर्व मुख्यमंत्री, बिहार
  1941  में कोलकाता के विधासागर कॉलेज से इंटर करने के बाद राजनीति में चला आया और इतना रम गया कि फिर आगे पढाई नहीं कर पाया. लेकिन हाँ, किताबें पढ़ने का शौक अनवरत जारी ...
Read more

तब स्पॉट बॉय ने भी मुझे तंग किया था : के.के.गोस्वामी (हास्य अभिनेता)

वो मेरी पहली शूटिंग By: Rakesh Singh ‘Sonu’ मेरी पहली फिल्म थी भोजपुरी भाषा की ‘रखिह लाज अचरवा के’ जो 1996 में रिलीज हुई थी. इसके निर्देशक थे...
Read more
250 x 250
250 x 250